IPL 2021: MI vs RCB- 8 साल से लगे इस दाग को क्या धूल पाएगी रोहित की सेना?

8 साल से चले आ रहे इस शर्मनाक रिकॉर्ड को बेहतर कर पाएगी रोहित की मुंबई इंडियंस?
8 साल से चले आ रहे इस शर्मनाक रिकॉर्ड को बेहतर कर पाएगी रोहित की मुंबई इंडियंस?

IPL 2021: MI vs RCB- 8 साल से लगे इस दाग को क्या धूल पाएगी रोहित की सेना?-आईपीएल (IPL) के इतिहास में सबसे सफल कप्तान रोहित शर्मा(Rohit sharma) एक बार फिर अपनी टीम को चैंपियन बनाने लिए कमर कस चुके हैं। मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) का पहला मुकाबला 9 अप्रैल को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (Royal Challengers Bangalore) के खिलाफ खेला जाना है। 2013 से रोहित शर्मा (Rohit sharma) मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के कप्तान हैं। आठ साल में 5 बार इस खिलाड़ी ने अपनी टीम को चैंपियन बनाया है। लेकिन एक ऐसा शर्मनाक रिकॉर्ड है जो रोहित इस सीजन सुधारना चाहेंगे। आपको जानकर हैरानी होगी कि पिछले 8 सीजन में रोहित की कप्तानी में मुंबई इंडियंस एक भी ओपनिंग मैच नहीं जीत पाया है।

आईपीएल 2020 में चेन्नई सुपर किंग्स ने मुंबई को 5 विकेट से हराया था। आखिरी 8 सीजन में DC, CSK, KKR, RCB, RPS ने मुंबई के खिलाफ अपना पहला मैच जीता है।

MI vs RCB: कैसी है रोहित की सेना?

टीम का बैटिंग लाइनअप बेहद खतरनाक है। मुंबई के पास शानदार पॉवर हिटर के साथ-साथ बेहतरीन तेज गेंदबाज और अव्वल दर्जे के स्पिनर हैं। रोहित की शानदार नेतृत्व क्षमता टीम को और मजबूती देती है।

ताकत:

MI की बल्लेबाजी उनकी सबसे बड़ी ताकत है। उनके पास कप्तान रोहित और क्विंटन डी कॉक के रूप में एक ठोस सलामी जोड़ी है और जरूरत पड़ने पर ऑस्ट्रेलियाई हार्ड-हिट बल्लेबाज क्रिस लिन भी एक विकल्प हैं। सूर्यकुमार यादव, युवा इशान किशन शानदार फॉर्म में हैं। हार्दिक, क्रुणाल और पोलार्ड बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनो में टीम को और घातक बनाते हैं। तेज गेंदबाजी के मोर्चे पर, टीम के पास जसप्रीत बुमराह और न्यूजीलैंड के ट्रेंट बोल्ट हैं जो पावरप्ले और डेथओवर्स में किसी भी बल्लेबाजी लाइनअप का नक्शा बिगाड़ सकते हैं।

कमजोरी:

मुंबई का स्पिन विभाग थोड़ा कमजोर है, खासकर चेन्नई के चेपक ट्रैक पर। क्रुनाल पांड्या की गेंदबाजी मुंबई के लिए परेशानी का सबब है। वहीं, राहुल चाहर के पास अभी अनुभव की कमी है। इस सीजन टीम ने अनुभवी लेग स्पिनर पीयूष चावला को टीम का हिस्सा बनाया है। लेकिन अगर टीम क्रुनाल और चाहर के साथ बनी रहती है। तो उनका खेलना थोड़ा मुश्किल है। इस सीजन टीम की एक और बड़ी कमजोरी है कि उनके पास बड़े खिलाड़ीयों का अच्छा रिप्लेसमेंट नहीं है।अब देखना होगा कि 9 अप्रैल को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ मुंबई कैसे 8 सालों से लगा हुआ ये दाग धुलती है।