IPL 2021: मैचों के शुरू होने के समय से नाखुश हैं धोनी, बताया क्यों शाम 7:30 बजे नहीं खेला जाना चाहिए मुकाबला

IPL 2021: मैचों के शुरू होने के समय से नाखुश हैं धोनी, बताया क्यों शाम 7:30 बजे नहीं खेला जाना चाहिए मुकाबला
IPL 2021: मैचों के शुरू होने के समय से नाखुश हैं धोनी, बताया क्यों शाम 7:30 बजे नहीं खेला जाना चाहिए मुकाबला

IPL 2021: मैचों के शुरू होने के समय से नाखुश हैं धोनी, बताया क्यों शाम 7:30 बजे नहीं खेला जाना चाहिए मुकाबला- एमएस धोनी की चेन्नई सुपर किंग्स और नए कप्तान ऋषभ पंत की दिल्ली कैपिटल्स के बीच शनिवार को मुकाबला हुआ जिसे दिल्ली ने सात विकेट से आसानी से जीत लिया. आईपीएल 2021 के अपने पहले ही मैच में हार का सामना करने के बाद धोनी ने निराशा जताई है. वे मैचों के समय को लेकर नाखुश हैं.

माही ने मैच खत्म होने के बाद स्टार स्पोर्ट्स से पोस्ट मैच इंटरव्यू में कहा, “…जब आपके दिमाग में ओस का फैक्टर होता है और आप पहले बल्लेबाजी करते हैं तब आपको एक्स्ट्रा 10-15 रनों की जरूरत होती है. ये तब होता था जब मैच 8 बजे रात को शुरू होता था. 7:30 बजे से मैच शुरू होने का मतलब है कि विरोधी टीम के लिए कम से कम डेढ़ घंटे तक मैदान में बहुत कम ओस होगी, इसका मतलब ये हुआ कि दूसरी पारी में आप जितना अच्छा कर सकते हैं उतना पहली पारी में नहीं कर पाएंगे. इसलिए आपको 15-20 रन ज्यादा बनाने होते हैं ताकि आप मैच में बने रहो, इसके अलावा आपको जल्दी विकेट भी लेनी होती है.”

ये भी पढ़ें- IPL 2021: Rajasthan Royals और Punjab Kings के बीच मुकाबले में बड़े हिटर होंगे आकर्षण

धोनी ने इस बात पर भी निराशा जताई कि टीम के सलामी बल्लेबाजों ने जल्द विकेट खो दिए. फाफ डु प्लेसिस और रुतुराज गायकवाड़ जल्द पेवेलियन लौट गए थे. हालांकि उसके बाद मोईन अली और सुरेश रैना ने टीम के मैच में वापसी कराई थी.

धोनी का मानना है कि उनकी टीम शुरुआती विकेट खोने और पहले बल्लेबाजी करने के कारण मुश्किल में आई. हालांकि वे ये भी सोचते हैं कि उनकी टीम ने 188/7 का एक अच्छा स्कोर कायम किया था.

धोनी ने इंटरव्यू में कहा, “मैच की शुरुआत से ही हमारे दिमाग में ओस का फैक्टर था. यही कारण था कि हम जितने रन बना सकते थे उतने बनाने की कोशिश कर रहे थे. विकेट को देखें तो, हमारे बल्लेबाजों ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया और 188 रन बनाए क्योंकि पहले कुछ ओवर में विकेट थोड़ा चिपचिपा था, जब ओस आई तब 45-50 मिनट काफी अच्छे रहे.”

उन्होंने आगे कहा, “अगर हमको लगातार ओस मिलती रहे तो दोनों टीमें 200 रन बना सकती है. लेकिन जैसा मैंने कहा कि मैच का पहला हाफ अलग था, इसलिए तब आपको एक अच्छी शुरुआत की बेहद जरूरत होती है.”

आपको बता दें कि 2008 से आईपीएल का आगाज हुआ है और तब से मैच रात को आठ बजे से ही खेले जाते थे. हालांकि समय समय पर बदलाव भी होते रहे हैं. पिछले साल, क्योंकि ये टूर्नामेंट यूएई में खेला गया था, मैच शुरू करने की अवधि को आधा घंटा पहले कर दिया था.

ये भी पढ़ें- IPL 2021: इस वजह से रैना को लेकर एक दूसरे से भिड़े गंभीर और पार्थिव पटेल

आईपीएल 2021 के लिए भी अधिकारियों ने शाम 7:30 के समय को ही सहमति दी और इस बात का ख्याल रखा कि मैच ज्यादा रात तक न चले. लेकिन धोनी ने इस बात पर चिंता व्यक्त की तो हो सकता है कि बीसीसीआई और आईपीएल प्रबंधन अपने इस फैसले पर गौर करेंगे.