IPL 2021: मुरलीधरन आज होंगे डिस्चार्ज, जल्द होंगे सनराइजर्स का हिस्सा

IPL 2021 के बीच बुरी खबर, मुथैया मुरलीधरन अस्पताल में भर्ती, हुई एंजियोप्लास्टी
IPL 2021 के बीच बुरी खबर, मुथैया मुरलीधरन अस्पताल में भर्ती, हुई एंजियोप्लास्टी

IPL 2021 के बीच बुरी खबर, मुथैया मुरलीधरन अस्पताल में भर्ती, हुई एंजियोप्लास्टी- श्रीलंका के स्पिन दिग्गज और सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) के गेंदबाजी कोच मुथैया मुरलीधरन को कार्डियक इश्यू के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अब हॉस्पिटल का कहना है कि वो जल्द डिस्चार्ज होंगे और अपना काम शुरु कर सकते हैं। उनका चेन्नई के कावेरी अस्पताल में एंजियोप्लास्टी हुआ है। ईएसपीएनक्रिकइंफो की रिपोर्ट के अनुसार इस चैंपियन स्पिनर की धमनी को खोलने के लिए स्टेंट डाला गया और वह अस्पताल से छुट्टी मिलने पर Sunrisers Hyderabad से दोबारा जुड़ेंगे। मुरलीधरन 1347 विकेटों के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सबसे सफल गेंदबाज हैं।

ये भी पढ़ें- IPL 2021 CSK vs RR: राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ बड़ा बदलाव कर सकते हैं धोनी, देखें प्लेइंग इलेवन!

मुरलीधरन क्रिकेट के सबसे कामयाब गेंदबाजों में से एक

49 साल के मुरलीधरन क्रिकेट के सबसे कामयाब गेंदबाजों में से एक हैं। उन्होंने श्रीलंका के लिए 133 टेस्ट और 350 वनडे मैच खेले। इनमें उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 800 और वनडे में 534 विकेट लिए हैं। उन्होंने साल 2011 में वर्ल्ड कप के बाद क्रिकेट से संन्यास ले लिया था।

वे आईपीएल में भी खेले हैं। यहां पर वे चेन्नई सुपरकिंग्स, कोच्चि टस्कर्स केरला और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर का हिस्सा रहे हैं। इस दौरान उन्होंने 66 मैच खेले और 63 विकेट लिए। 11 रन पर तीन विकेट उनका बेस्ट प्रदर्शन रहा। उनका सबसे अच्छा प्रदर्शन चेन्नई के लिए ही रहा। इस टीम के लिए तीन सीजन में उन्होंने 40 विकेट लिए। बाद में वे सनराइजर्स हैदराबाद के साथ कोच के रूप में जुड़ गए।

मुरलीधरन को अपने करियर के दौरान गेंदबाजी एक्शन के चलते काफी विवादों का सामना भी करना पड़ा था। उनके एक्शन को कई बार अवैध करार दिया गया हालांकि टेस्ट में उन्हें क्लीन चिट मिली थी। वे अपने करियर के दौरान 1711 दिनों तक नंबर वन टेस्ट गेंदबाज रहे। उनकी गेंदबाजी के सामने बड़े-बड़े बल्लेबाज नतमस्तक हो जाते थे।

इस सीजन अब तक खराब रहा है हैदराबाद का प्रदर्शन

इस सीजन अब तक हैदराबाद ने बहुत ही खराब प्रदर्शन किया है। अब तक टीम ने तीन मैच खेले हैं। तीनों मैच में हैदराबाद को हार का सामना करना पड़ा है। टीम की बल्लेबाजी बहुत ही खराब रही है। गेंदबाजी में टीम का प्रदर्शन अच्छा रहा है। हैदराबाद के गेंदबाज विपक्षी टीम को कम टोटल पर रोक भी ले रहे हैं तो टीम के बल्लेबाजों से वो टारगेट चेज नहीं हो पा रहा है।